Tweet

RAMA EKADASHI (GET RID OF YOUR EVIL DEEDS)

~~~ॐ नमो भगवते वासुदेवाय~~~

This Ekadashi has the energy to remove one’s sins and evil deeds can be washed away. It is believed that devotee must observe this fast and remain awake at whole night of ekadashi and chant the Lord Vishnu Mantra. Rama Ekadashi is also known as Kartik Krishna Ekadashi, as it comes in Kartik month and Krishna paksha.

Time of Rama Ekadashi

Ekadashi Tithi Starts - 01:09 AM on Oct 24, 2019

Ekadashi Tithi Ends - 10:19 PM on Oct 24, 2019

Prana Muhurat: 06:32 AM to 08:45 AM on 25th Oct

 

Significance Of Rama Ekadashi

  • Devotee could get enlightment (Moksh)
  • This Ekadashi fast gives result more than 1000 Ashwamedha Yagya or 100 Rajasuya Yagya.
  • It is like a holy dip in river Ganga.
  • One who observes this Ekadashi fast gets healthy and wealthy by the effects of Rama Ekadasi.
  • Rama Ekadashi Vrat results in good health, wealth, and prosperity.

Rama Ekadashi Katha:

युधिष्ठिर ने पूछा : जनार्दन ! मुझ पर आपका स्नेह है, अत: कृपा करके बताइये कि कार्तिक के कृष्णपक्ष में कौन सी एकादशी होती है ?

भगवान श्रीकृष्ण बोले : राजन् ! कार्तिक (गुजरात महाराष्ट्र के अनुसार आश्विन) के कृष्णपक्ष में ‘रमा’ नाम की विख्यात और परम कल्याणमयी एकादशी होती है । यह परम उत्तम है और बड़े-बड़े पापों को हरनेवाली है ।

पूर्वकाल में मुचुकुन्द नाम से विख्यात एक राजा हो चुके हैं, जो भगवान श्रीविष्णु के भक्त और सत्यप्रतिज्ञ थे । अपने राज्य पर निष्कण्टक शासन करनेवाले उन राजा के यहाँ नदियों में श्रेष्ठ ‘चन्द्रभागा’ कन्या के रुप में उत्पन्न हुई । राजा ने चन्द्रसेनकुमार शोभन के साथ उसका विवाह कर दिया । एक बार शोभन दशमी के दिन अपने ससुर के घर आये और उसी दिन समूचे नगर में पूर्ववत् ढिंढ़ोरा पिटवाया गया कि: ‘एकादशी के दिन कोई भी भोजन न करे ।’ इसे सुनकर शोभन ने अपनी प्यारी पत्नी चन्द्रभागा से कहा : ‘प्रिये ! अब मुझे इस समय क्या करना चाहिए, इसकी शिक्षा दो ।’

चन्द्रभागा बोली : प्रभो ! मेरे पिता के घर पर एकादशी के दिन मनुष्य तो क्या कोई पालतू पशु आदि भी भोजन नहीं कर सकते । प्राणनाथ ! यदि आप भोजन करेंगे तो आपकी बड़ी निन्दा होगी । इस प्रकार मन में विचार करके अपने चित्त को दृढ़ कीजिये ।

शोभन ने कहा : प्रिये ! तुम्हारा कहना सत्य है । मैं भी उपवास करुँगा । दैव का जैसा विधान है, वैसा ही होगा ।

भगवान श्रीकृष्ण कहते हैं : इस प्रकार दृढ़ निश्चय करके शोभन ने व्रत के नियम का पालन किया किन्तु सूर्योदय होते होते उनका प्राणान्त हो गया । राजा मुचुकुन्द ने शोभन का राजोचित दाह संस्कार कराया । चन्द्रभागा भी पति का पारलौकिक कर्म करके पिता के ही घर पर रहने लगी ।

नृपश्रेष्ठ ! उधर शोभन इस व्रत के प्रभाव से मन्दराचल के शिखर पर बसे हुए परम रमणीय देवपुर को प्राप्त हुए । वहाँ शोभन द्वितीय कुबेर की भाँति शोभा पाने लगे । एक बार राजा मुचुकुन्द के नगरवासी विख्यात ब्राह्मण सोमशर्मा तीर्थयात्रा के प्रसंग से घूमते हुए मन्दराचल पर्वत पर गये, जहाँ उन्हें शोभन दिखायी दिये । राजा के दामाद को पहचानकर वे उनके समीप गये । शोभन भी उस समय द्विजश्रेष्ठ सोमशर्मा को आया हुआ देखकर शीघ्र ही आसन से उठ खड़े हुए और उन्हें प्रणाम किया । फिर क्रमश : अपने ससुर राजा मुचुकुन्द, प्रिय पत्नी चन्द्रभागा तथा समस्त नगर का कुशलक्षेम पूछा ।

सोमशर्मा ने कहा : राजन् ! वहाँ सब कुशल हैं । आश्चर्य है ! ऐसा सुन्दर और विचित्र नगर तो कहीं किसीने भी नहीं देखा होगा । बताओ तो सही, आपको इस नगर की प्राप्ति कैसे हुई?

शोभन बोले : द्विजेन्द्र ! कार्तिक के कृष्णपक्ष में जो ‘रमा’ नाम की एकादशी होती है, उसीका व्रत करने से मुझे ऐसे नगर की प्राप्ति हुई है । ब्रह्मन् ! मैंने श्रद्धाहीन होकर इस उत्तम व्रत का अनुष्ठान किया था, इसलिए मैं ऐसा मानता हूँ कि यह नगर स्थायी नहीं है । आप मुचुकुन्द की सुन्दरी कन्या चन्द्रभागा से यह सारा वृत्तान्त कहियेगा ।

शोभन की बात सुनकर ब्राह्मण मुचुकुन्दपुर में गये और वहाँ चन्द्रभागा के सामने उन्होंने सारा वृत्तान्त कह सुनाया ।

सोमशर्मा बोले : शुभे ! मैंने तुम्हारे पति को प्रत्यक्ष देखा । इन्द्रपुरी के समान उनके दुर्द्धर्ष नगर का भी अवलोकन किया, किन्तु वह नगर अस्थिर है । तुम उसको स्थिर बनाओ ।

चन्द्रभागा ने कहा : ब्रह्मर्षे ! मेरे मन में पति के दर्शन की लालसा लगी हुई है । आप मुझे वहाँ ले चलिये । मैं अपने व्रत के पुण्य से उस नगर को स्थिर बनाऊँगी ।

भगवान श्रीकृष्ण कहते हैं : राजन् ! चन्द्रभागा की बात सुनकर सोमशर्मा उसे साथ ले मन्दराचल पर्वत के निकट वामदेव मुनि के आश्रम पर गये । वहाँ ॠषि के मंत्र की शक्ति तथा एकादशी सेवन के प्रभाव से चन्द्रभागा का शरीर दिव्य हो गया तथा उसने दिव्य गति प्राप्त कर ली । इसके बाद वह पति के समीप गयी । अपनी प्रिय पत्नी को आया हुआ देखकर शोभन को बड़ी प्रसन्नता हुई । उन्होंने उसे बुलाकर अपने वाम भाग में सिंहासन पर बैठाया । तदनन्तर चन्द्रभागा ने अपने प्रियतम से यह प्रिय वचन कहा: ‘नाथ ! मैं हित की बात कहती हूँ, सुनिये । जब मैं आठ वर्ष से अधिक उम्र की हो गयी, तबसे लेकर आज तक मेरे द्वारा किये हुए एकादशी व्रत से जो पुण्य संचित हुआ है, उसके प्रभाव से यह नगर कल्प के अन्त तक स्थिर रहेगा तथा सब प्रकार के मनोवांछित वैभव से समृद्धिशाली रहेगा ।’

नृपश्रेष्ठ ! इस प्रकार ‘रमा’ व्रत के प्रभाव से चन्द्रभागा दिव्य भोग, दिव्य रुप और दिव्य आभरणों से विभूषित हो अपने पति के साथ मन्दराचल के शिखर पर विहार करती है । राजन् ! मैंने तुम्हारे समक्ष ‘रमा’ नामक एकादशी का वर्णन किया है । यह चिन्तामणि तथा कामधेनु के समान सब मनोरथों को पूर्ण करनेवाली है ।

 

~~~ॐ नमो भगवते वासुदेवाय~~~

Know more about the Ekadashi Vrat

 

Facebbok Comments

Comments

Be the first to comment

Leave your comment

  

I love this site very much especially that Mohenjodaro one
Rating: 5 Nishchay Chaurasia
A wonderful person with simple remedies and advice .
Rating: 5 Anand Raman
A wonderful person with simple remedies and advice .
Rating: 5 Anand Raman
I have been consulting Akash Bhaiya for more than 5 years. Every time I got satisfied and authentic solutions of my queries. He always address my problem and give considerable time to resolve it. He is a very generous person with excellent communication skill and have deep knowledge of Astrology.
Rating: 5 Seema Jain
Thanks for providing such information. It's really a nice step to retain our culture.
Rating: 5 Ankita
I have been consulting Sir since almost 4 years now. It has always been accurate for me. His ways of explaining are accurate and logical that actually correlates to reality. Thanks to all the guidance.
Rating: 5 Manas
Nice good
Rating: 4 Rohit vedi
Rating: 5 Johny
Ur site is very useful to me .
Rating: 4 Ritu porwal
Nice person with incredible knowledge on astrology. Truly impressed.
Rating: 5 Ravi
nice
Rating: 4 ashu
I never used to believe in predictions and astrology, but after Akash's prediction and genuine remedies of problems I started believing. Now I seek for his prediction whenever I 'm in dilemma or in problems.
Rating: 5 Amita Singh
Akash helped me many times through his predictions n remedies, awesome astrologer, but most importantly awesome person.
Rating: 5 Shivangi
Rating: 5 Abhishek
Best astrologer
Rating: 5 Abhishek
good and precise Information ..
Rating: 5 PraVeen Pratap singh
Akash is great astrologer that I have seen ever. His prediction is incredible. Apart from astrology, he is a great solution provider and a skilled engineer.
Rating: 5 Amita
Wonderful Astrologer with nice and precise knowledge on astrology.
Rating: 5 satyan
Excellent consultant...Highly Recommended.
Rating: 5 Amandeep
akash is one of the best astrologers i have seen till date... keep it up good work :-)
Rating: 5 shivam
Rating: 5 Arun
Akash as an astrologer is excellent. The way he understand the problem and provide the solution is incredible. Highly Recommended. Thanks Akash!!!
Rating: 5 Raj
Rating: 5 Nitin Raghuvanshi
Akash is the best astrologer i have seen
Rating: 5 Nitin
How would you rate Akash
Rating Criteria: 1 as Lowest and 5 as Best
Total Reviews : 24 Average rating : 4.88